11 मुख्‍ाी रूद्राक्ष

11 मुख्‍ाी रूद्राक्ष

भगवान शिव का रुद्र रूप है ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष। ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को शिखा में बांधना या गले में धारण करना चाहिए।
 
7100.00 
विवरण
आकार : गोलाकार
वजन (ग्राम) : 3.0 to 4.0 (Approx)
माप : 17mm (Approx)
सर्टिफिकेशन: Astrovidhi
उत्‍पत्ति : नेपाली रूद्राक्ष
डिलेवरी विवरण
Delivery: Within 3 – 4 Business Days
Free Shipping: All over India
Order on Call: 9468533996
अभिमंत्रित: यह उपाय गुरुदेव भवानी ज्योतिषी द्वारा अभिमंत्रित है।
ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को भगवान इंद्र का स्‍वरूप भी माना जाता है।

ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने और नियमित इससे मंत्र का जाप करने से अश्‍वमेघ यज्ञ जितना फल प्राप्‍त होता है।
  • ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष से सबसे ज्‍याद व्‍यापारियों को लाभ मिलता है क्‍योंकि इससे आय के स्रोत खुलते हैं और व्‍यापार में वृद्धि होती है एवं नए अवसर प्राप्‍त होते हैं।
  • यदि आप किसी रोग से मुक्‍ति पाना चाहते हैं तो आपको ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष से लाभ होगा।
  • इस ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्‍यक्‍ति को राजनीति, कूटनीति और हर क्षेत्र में विजय हासिल होती है।
  • संतान प्राप्‍ति की इच्‍छा रखते हैं या पति की तबियत खराब रहती है तो ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करें।

कैसे करें प्रयोग

ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को सोमवार, शुक्रवार या एकादशी के दिन ही धारण करना चाहिए। इस रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ ह्रीं हूं नमः” है।
इसके पश्‍चात् तीन माला का “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करें। इससे आपको ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष का दस गुना अधिक लाभ प्राप्‍त होगा।

हमसे क्‍यों लें

ग्‍यारह मुखी रुद्राक्ष को हमारे पंडितजी द्वारा अभिमंत्रित कर के आपके पास भेजा जाएगा जिससे आपको शीघ्र अति शीघ्र इसका पूर्ण लाभ मिल सके।
महाकाल ज्योतिष दरबार
गुरुदेव भवानी ज्योतिषी
आप किसी भी प्रकार की जानकारी जे लिए संपर्क करे:–
कॉल करे :- 09468533996 
व्हात्सप्प :- 09468533996
गुरुदेव भवानी ज्योतिषी
समय:- सुबह 10.00 से 1.00 बजे तक
शाम 07.00 से 9.00 बजे रात्रि तक
E mail:- jee.gurudev@yahoo.in
gurudevbhawanijyotishi@gmail.com
Visit peg. :- 
astrologerbhawani.blogspot.com

11 मुख्‍ाी रूद्राक्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Open chat
1
Hii, How can i help you?
Call Now Button